स्लग-घूसखोरी का मामला उजागर होने पर बौखलाए प्रधान प्रतिनिधि ने दी गरीब को उजाड़ देने की धमki

*स्लग-घूसखोरी का मामला उजागर होने पर बौखलाए प्रधान प्रतिनिधि ने दी गरीब को उजाड़ देने की धमki

 

*रिपोर्ट dr kaluram tripathi*

 

*स्थान-गोण्डा*

 

*एंकर-*

घूसखोरी के काले कारनामे उजागर होने से बौखलाए प्रधान प्रतिनिधि अब गरीब व दलित पीड़ित महिला को उजाड़ने पर उतर आए हैं।

मामला गोण्डा जनपद के विकासखण्ड तरबगंज का है।

ग्रामसभा खजूरी में प्रधानमंत्री आवास योजना की लाभार्थी महिला गीता देवी के खाते में आवास की पहली किश्त आई थी।

आरोप है कि यहां के प्रधान प्रतिनिधि कहे जाने वाले राकेश पाण्डेय द्वारा महिला 10 हजार रुपये मांगे गए और बताया गया कि ब्लॉक पर कर्मचारियों को घूस देना पड़ता है।

बातचीत का ऑडियो वायरल हो गया और महिला ने बताया कि प्रधान प्रतिनिधि ने कहा है अगर घूस की रकम नही दोगी तो दूसरी किश्त नही आएगी।

जिसकी खबर अगले दिन समाचार पत्रों में प्रकाशित व सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी।

महिला का आरोप है कि खबर से बौखलाये प्रधान प्रतिनिधि अपने समर्थकों के साथ घर पर चढ़ आये चढ़ आए व गालीगलौज देने के साथ जान से मारने की धमकी भी दे डाली।

और बताया कि तुम्हारे आवास की एक एक ईंट उजड़वा दूंगा।

महिला ने प्रधान प्रतिनिधि व उनके समर्थकों के खिलाफ थाने पर तहरीर भी दी लेकिन आरोप है कि पुलिस ने कोई कार्यवाही नही की।

अब महिला ने प्रकरण के सम्बन्ध में जिले के एसपी,डीएम,सीडीओ व आयुक्त समेत मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजकर कार्यवाही की मांग की है।

वहीं प्रकरण प्रकाश में आने के बावजूद ब्लॉक के अधिकारियों द्वारा कोई कार्यवाही न होने से भी लोग विभाग पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

ब्लॉक कर्मचारियों व अधिकारियों द्वारा आवास में अवैध वसूली की बात प्रधान प्रतिनिधि द्वारा आडियो में कही गयी सही तो नही।

आखिर विकासखण्ड में तैनात जिम्मेदारों ने घूसखोरी की बात उजागर होने व ऑडियो रिकार्डिंग के साथ ही महिला के आरोप के बावजूद प्रधान प्रतिनिधि पर कोई कार्यवाही क्यों नही हुई।

वहीं मामले में प्रशासन के मूक रहने तथा प्रधान प्रतिनिधि द्वारा मिल रही निरंतर धमकियों से महिला भयभीत है।

थाने पर दी गयी तहरीर के सम्बंध में जब एसओ संतोष कुमार सरोज से बात की गई तो उन्होने बताया कि प्रकरण मेरे संज्ञान में नही आया है।महिला द्वारा शिकायत मिलने पर उचित कार्यवाही की जाएगी।

 

*बाईट-पीड़ित महिला गीता देवी*

Related posts

Leave a Comment