अच्छे स्वास्थ्य के लिए पोषक तत्व जरूरी – डॉ शिवाजी सिंह, 

अच्छे स्वास्थ्य के लिए पोषक तत्व जरूरी – डॉ शिवाजी सिंह,

 

रिपोर्ट सुशील कुमार द्विवेदी

 

चतुर्थ राष्ट्रीय पोषण माह के दूसरे सप्ताह में क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डॉ शिवाजी के निर्देशानुसार योगाचार्य सुधांशु द्विवेदी द्वारा आयुर्वेद विभाग में कार्यरत कर्मियों, आगनवाणी कार्यकतरी,एनम,गर्भवती महिलाओं,बच्चों एवं किशोरियों को योगाभ्यास करवाया गया।योगाचार्य सुधांशु द्विवेदी द्वारा योग से होने वाले लाभ पर प्रकाश डाला गया। योगाचार्य द्वारा योगाभ्यास के अंत में पोषण अभियान एक बहु – मंत्रालयी मिशन है। जो प्रधानमंत्री के विजन “सुपोषण भारत” (कुपोषण मुक्ता भारत) पर आधारित है।इस पर भी जागरूक किया गया। पोषण हेतु योगाभ्यास करवाया गया।योगाचार्य सुधांशु द्विवेदी ने कहा पोषक मानव शरीर को चुस्त और दुरुस्त रखने के लिए सूक्ष्म पोषक तत्व की बेहद आवश्यकता है। जागरूकता को लेकर क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डॉ शिवाजी ने कार्यालय परिसर में जिले के सभी ब्लॉकों के चिकित्साधिकारी एवं फार्मासिस्ट की एक कार्यशाला ‘न्यूट्रीशन इंटरनेशनल’ की ओर से आयोजित करने का निर्देश दिया है। इसी क्रम में चिकित्साधिकारी डॉ शिव प्रताप वर्मा ने उपस्थित सभी लाभार्थियों भी को आयरन, कैल्शियम, फोलिक एसिड, विटामिन ए, जिंक, एल्बेंडाजोल के लाभ के बारे में बताया। साथ ही इन सबको किस उम्र के बच्चे को कितनी मात्रा में देना चाहिए इसके बारे में विस्तृत जानकारी दी।इसी क्रम में फार्मासिस्ट दशरथ प्रसाद ने बताया कि पोषक तत्वों के प्रबंधन के लिए विटामिन ‘ए’ की खुराक नौ माह से 12 माह तक के बच्चों को आधा चम्मच खसरा एवं रुबेला टीका के साथ देना चाहिए। दूसरी खुराक 16 से 24 माह के बच्चों को एक चम्मच देना चाहिए जबकि तीसरी खुराक दो वर्ष से पांच वर्ष तक के बच्चों को रुबेला खसरा के डोज के बाद हर छह माह के अंतराल पर एक चम्मच देना चाहिए। उन्होंने बताया कि छह माह से पांच वर्ष तक के बच्चे को आईएफएस सिरप देना चाहिए। यह सिरप सप्ताह में दो बार देना चाहिए। जबकि पांच से 10 वर्ष के बच्चे को आईएफए की पिंक गोली जिसमें आयरन और फोलिक एसिड होता है, सप्ताह में एक बार भोजन के एक घंटे के बाद देनी चाहिए। 10 वर्ष से 19 वर्ष के किशोर और किशोरियों को आईएफए की नीली गोली सप्ताह में एक बार देनी चाहिए। साथ ही गर्भवती एवं धात्री महिलाओं को आईएफए की लाल गोली प्रतिदिन 180 दिनों तक पहली तिमाही के बाद से तथा प्रसव के बाद छह माह तक दी जानी चाहिए। इस अवसर चिकित्साधिकारी डॉ शिव प्रताप वर्मा और वरिष्ट लिपिक ओम प्रकाश सिंह द्वारा सभी लाभार्थियों को पोषण तत्व से संबंधित दवाएं वितरित की गई।

इस कार्यक्रम में ओम प्रकाश सिंह, अखिलेश,राम रूप,परशुराम,के के सिंह, अभिनाश,संतोष कुमारी, सुशीला, नीलम पाठक आदि उपस्थित रहीं।

Related posts

Leave a Comment